Month: December 2018

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 7

December 31, 2018

पिछले लेख पार्ट 6 में हमने तन-मन में रोगों के तीन स्थान के बारे में लिखा था, जिसमें शेष 2 की जानकारी देना थी अब जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 7 इस आर्टिकल्स में आयुर्वेद ग्रंथों के मुताबिक 5 प्रकार के लकवा,  पक्षाघात या पैरालिसिस के विषय में जानेंगे शरीर में […]

Read More

Rasayana chikitsa

December 30, 2018

Rasayana chikitsa is a branch of ayurvedic treatment that has a strengthening and rejuvenating action on the body. Possessing such qualities, it is something that is a somewhat attraction in this modern age due to the fact that it essentially has an ‘anti-ageing’ effect. Rasayana chikitsa is most beneficial after the body has been on […]

Read More

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 6 अति दुर्लभ ज्ञान

December 30, 2018

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 6 पिछले लेख पार्ट 5 में हमने तीन तरह के रोगों के बारे में लिखा था, अब जाने रोगों के स्थान शरीर में इन तीन स्थानों पर रोग पैदा होते हैं तीन रोग स्थान — तन-मन में रोगों के तीन स्थान बतलाए हैं पहला रोग स्थान — […]

Read More

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 5

December 29, 2018

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 5 पिछले आर्टिकल पार्ट 4 में 4 तरह की अग्नि से पैदा होने वाले रोग के बारे में बताया था। “इस आलेख में जानिए रोग के प्रकार” रोग तीन तरह के होते हैं — 【1】निज रोग — त्रिदोषों यानि वात, पित्त व कफ के बिगड़ने से शरीर […]

Read More

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 4

December 29, 2018

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 4 पिछले आर्टिकल में तेरह तरह के वेग रोकने से भयंकर बीमारियां होती हैं। अब आगे द्विदोषज रोग क्या होते हैं — आयुर्वेद शास्त्रों के अनुसार जो रोग वात,पित्त और कफ इन तीन दोषों में से किन्हीं दो दोषों से युक्त कोई बीमारी हो, उसे द्विदोषज रोग कहा […]

Read More

बालों में गन्दगी के कारण पड़ते हैं लीख व जुएँ

December 29, 2018

सिर में जुएं और लीख पड़ना क्यों और कैसे पड़ते हैं जुएँ। इसके लक्षण, कारण और प्राकृतिक उपचार कारण एवं 100% हर्बल चिकित्सा   बोरिंग व खारे और प्रदूषित पानी से बाल धोने पर सिर में लीख व जुएं पड़ जाते हैं।

Read More

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 3

December 28, 2018

आयुर्वेद ग्रंथों में 8 प्रकार के मूत्र के विषय में बताया है-   आठ मूत्र – 【1】गाय का मूत्र, 【2】बकरी का मूत्र 【3】भेड़ का मूत्र, 【4】भैंस का मूत्र, 【5】हथिनी का मूत्र, 【6】ऊंटनी व 【7】घोड़ी का मूत्र और

Read More

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 2

December 28, 2018

क्या आपको “पंचलवण” के बारे में मालूम है, ये पांच तरह के नमक अजीर्ण, वायुगोला, शूल (पेट दर्द) और उदर रोगों को मिटाते हैं। पित्तनाशक रस – त्रिदोषों में से एक पित्तदोष, जो पेट व उदर विकार और ज्वर/फीवर/ बुखार, डेंगू आदि रोग उत्पन्न करता है। दुबलापन, कमजोरी, चिड़चिड़ापन, मधुमेह पाचनतंत्र (मेटाबोलिज्म) की खराबी अस्त-व्यस्त […]

Read More

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट

December 28, 2018

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट -1 धन्वन्तरि कृत “आयुर्वेदिक निघण्टु” लेखक प्रेमकुमार शर्मा (भारतीय जड़ी-बूटी तथा ओषधियों के शोधकर्ता) के अनुसार आयुर्वेद उसे कहते हैं, जो आयु और स्वास्थ्य का हित-अहित बताकर रोग मुक्त होकर जीवन का ज्ञान उपलब्ध कराए।

Read More

ठण्ड के मौसम में मालिश से 28 फायदे

December 27, 2018

सर्दियों में रूखी त्वचा के लिए वरदान कुम-कुमादि, बादाम (आलमंड),  जैतून (ऑलिव) और चंदनादि प्राकृतिक खुशबूदार तेलों से निर्मित काया की हर्बल मसाज़ ऑयल चिप-चिपाहट रहित 100% आयुर्वेदिक तेल पूरे परिवार और बच्चों की मालिश और अभ्यङ्ग के लिए गुणकारी है।

Read More

अमृतम पत्रिका से जुड़ने के लिए अपना ईमेल  और व्हाट्सएप नंबर शेयर करे