तेल की मालिश करने से कभी कोई बीमारी नहीं होती। चिकित्सा चंद्रोदय ग्रंथ के अनुसार!

Spread the love
  • स्वास्थ्य को सही रखने का गणित—
  • प्रत्येक शनिवार चन्दन, जैतून, बादाम तेल एवं केशर इत्र युक्त ऑयल से पूरे शरीर की मालिश करके
  • !!नमःशिवाय च शं शनैश्चाराय नम शिवाय!!मन्त्र का 88 बार जाप कर, एक घण्टे बाद स्नान करें।
  • नहाने के बाद एक दीपक किसी पीपल वृक्ष के नीचे स्थित शिवालय पर अमृतम राहु की तेल का जलाकर आएं। एक साल के इस उपाय से आर्थिक तंगी भी दूर होकर। मुकदमें आदि से राहत व सफलता मिलने लगेगी।
  • यह स्मरण रखें कि महर्षि पिप्लाद शनि के गुरु हैं। एक पर्यटन कथा के अनुसार इन्होंने शिव की तपस्या कर पीपल वृक्ष होने का वरदान मांगा था।
  • कब कब मालिश करना सौभाग्यसूचक..
  • बुधवार, शुक्रवार एवं शनिवार इन तीनों दिनों में सिर में तेल लगाने के साथ साथ पूरे शरीर की धूप में बैठकर मालिश कर स्नान करना बहुत ही फायदेमंद तथा सौभाग्यवर्धक रहता है।
  • रहस्यमयी शनि नामक पुस्तक में उल्लेख है- शनिदेव की प्रसन्नता के लिए शनिवार को शनि भगवान पर तेल अर्पित करें या नहीं करें। परन्तु हरेक मानव को शनिवार के दिन अपने शरीर पर तेल जरूर लगाना चाहिए। फिर स्नान करें।

मन की चंचलता मिटाने हेतु सोमवार को अभ्यंग या मालिश करना हितकारी है!

  • बुद्धि-विवेक वृद्धि हेतु” बुधवार को नहाने से पहले मालिश लाभकारी है।
  • आलस्य व शिथिलता– दुर्भाग्य दूर करने के लिए
  • शुक्रवार को पूरे शरीर पर अभ्यंग करना हितकारी है तथा
  • भय-भ्रम,चिन्ता,तनाव” से मुक्ति पाना हो और
  • राहु-केतु और शनि ग्रहों की शान्ति के लिए
  • शनिवार को सुबह स्नान से एक से दो घन्टे पूर्व मालिश या अभ्यंगस्नान का महत्व बताया है।
  • शुक्रवार को चंदनादि, जैतून, बादाम, अमृतम कुंकुमादि तेल तथा गुलाब इत्र युक्त सुगन्धित Kaya key oil तेल की मालिश से धन-समृद्धि बढ़ती है।
  • अभ्यंग चिकित्सा शास्त्रों” के “लेप-मर्दन प्रकरण में हर्बल ऑयल द्वारा अभ्यंग (मालिश) के बारे में स्पष्ट लिखा है कि-
  • तन को तेल से सराबोर यानि पूरी तरह भिगा लेना चाहिये। अमृतम काया की हर्बल मसाज़ ऑयल में 7 तरह के आयुर्वेद की जांची-परखी हर्बल ओषधियों का मिश्रण है। इसकी मन-मोहक खुशबू से तन-मन महक उठता है।
  • Kayakey Body massage oil एक खुशबूदार मसाज़ ऑयल है जिसे बनाया है शुद्ध प्राकृतिक तेलों से, जो शनि, शुक्र की प्रतिनिधि आराध्य द्रव्य हैं-

शुद्ध बादाम गिरी तेल

कुम-कुमादि तेल

जैतून तेल

केशर इत्र

चंदन इत्र

गुलाब इत्र

  • आदि सुगन्धित हर्बल द्रव्यों से निर्मित सम्पूर्ण परिवार के लिए अभ्यंग (मालिश) हेतु सर्वोत्तम है। अमृतम काया की मसाज़ ऑयल के

चमत्कारी 11 फायदे

  1. हड्डियों को मजबूत बनाये।
  2. त्वचा को मुलायम करे।
  3. रंग को साफ करने में सहायक।
  4. रक्त के संचार को गति प्रदान करता है
  5. शिथिल नाड़ियों को शक्तिशाली बनाता है
  6. छिद्रों की गन्दगी बाहर निकालता है
  7. तुष्टि-पुष्टि दायक है
  8. उन्माद,सिरदर्द,सिर की गर्मी में राहत देता है
  9. तनाव मुक्त कर,नींद लाता है
  10. शरीर को सुन्दर बनाता है
  11. सब प्रकार से स्वास्थ्य वर्द्धक है।

बच्चों के लिए बेबी केयर मसाज ऑयल

    • अपने कोमल शिशु या बच्चों की मालिश के लिए BABYCARE ऑयल एक बेहतरीन आयुर्वेदिक तेल है, जो बच्चों की मालिश हेतु अति उत्तम है। यह बच्चों के सूखा-सुखण्डी रोग नाशक होने के साथ साथ बच्चों की लम्बाई बढ़ाता है।
    • यह बच्चों के शरीर में किसी भी तरह के
    • संक्रमणों को पनपने नहीं देता। त्वचा चमकदार बनाता है।
    • इसमें बादाम तेल का मिश्रण बुद्धिवर्द्धक है।
    • नजला,जुकाम दूर कर, याददास्त बढ़ाता है

महिलाओं की मालिश हेतु नारी सौंदर्य तेल

      • महिलाओं का सौन्दर्य बढ़ाकर खूबसूरती व योवनता प्रदायक है नारियों को ऊर्जावान बनाकर, फुर्ती व स्फूर्ति वृद्धिकारक है।
      • NARI SOUNDARY Oil बुढापा रोकने में मदद करता है। निखार लाता है।

ऑर्थो की पैन ऑयल ८८ वात-विकार से बचाव करता है

धूप में करें अभ्यंग, तो होंगे मस्त-मलंग जाने मालिश के चमत्कारी~ 11 लाभदायक परिणाम

    1. धूप में बैठकर मालिश करने से विटामिन डी की पूर्ति होती है।
    2. देह की सभी हड्डियां मजबूत होने लगती हैं।
    3. शरीर में दर्द नहीं रहता
    4. थायराइड की समस्या से मुक्ति मिलती है।
    5. सुबह की धूप शरीर के सब नलकूप खोलकर तन-मन में मस्ती-चुस्ती, स्फूर्ति का संचार कर देती है।
    6. कोरोना जैसे संक्रमण से बचाव होता है।
    7. इम्युनिटी पॉवर बढ़ता है।
    8. चेहरे पर निखार आता है।
    9. रात में अच्छी, गहरी नींद आती है।
    10. बुढापा जल्दी नहीं आता।
    11. सेक्सुअल पॉवर एवं मर्दांग्नि शक्ति लम्बे समय तक बनी रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *