ईश्वर-भगवान की भी मजबूरी है। जाने क्यों?

Spread the love
सारा संसार एक दूसरे से जुड़ा या
बंधा हुआ है अथवा ये माने कि
सभी पर एक के ऊपर एक अंकुश है।
कंट्रोल है। हमारा तन ही एक दूसरे के
अंकुश में है। जैसे-
【१】शरीर पर इंद्रियों का कंट्रोल है।
【२】इंद्रियों पर मन का अंकुश है।
【३】मन पर बुद्धि का!
【४】बुद्धि पर चित्त का!
【५】चित्त पर आत्मा का
【६】आत्मा पर अहंकार का
【७】अहंकार पर महत्तव का
【८】महत्तव पर श्याम विवर
(अर्थात ब्लैक हॉल पर जहां सब
कुछ काला और महा अंधकार है ।)
【९】ब्लैक होल पर माँ महाकाली का
【१०】माँ महाकाली पर सूर्य का।
【११】सूर्य पर राहु (शिव) का
【१२】सब पर केतु का अंकुश है।
राहु के रहस्य जानने के लिए क्लिक करें-
【१२】शिव पर शेषनाग का
【१३】शेषनाग पर प्रकृति का
【१४】प्रकृति पर मन्त्रों का
【१५】मंत्रों पर साधकों का
【१६】साधकों पर सद्गुरुओं का
【१७】सद्गुरु पर परमात्मा का
【१८】परमात्मा पर शक्ति का
【१९】शक्ति पर भक्ति का
【२०】भक्ति पर ॐ का
【२१】 ॐ पर गायत्री का अंकुश है ।
【२२】ॐ और गायत्री मन्त्र व छन्द
के बिना सृष्टि के सब ग्रंथ, वेद-शास्त्र
पूजा-विधान, कर्मकाण्ड व्यर्थ हो जाते है ।
सूर्योउपनिषद में आया है कि गायत्री
मन्त्र प्रकृति है और ॐ ईश्वर है।
गायत्री मन्त्र की शक्ति से
लाखों-हजारों पुस्तकें, वेद-पुराण,
उपनिषद, भाष्य, ग्रन्थ, शोधपत्र
 चमत्कार भरे पड़े हैं।
सुखी-स्वस्थ्य, सम्पन्नता पाने के
लिए माथे पर अमॄतम चन्दन
त्रिपुण्ड अवश्य लगाएं।
चन्दन के 108 चमत्कार जानकर
आप ढंग रह जाएंगे..
लिंक क्लिक कर जाने
चन्दन के फायदे-
महिलाओं की खूबसूरती बढ़ाने 
का उपाय जानने के लिए नीचे 
क्लिक करें....
प्राचीन काल के सूतक को जानिये-
सन्दर्भ ग्रंथो के नाम, जिनसे
उपरोक्त जानकारी जुटाई गई है-
◆ स्कन्ध पुराण संस्कृत-हिंदी
 दोनों के 12 भाग
 ◆ शिव पुराण
 ◆ भविष्य पुराण
 ◆ श्रीमद्भागवत
 ◆ शक्ति पुराण
◆ दुर्गा सप्तशती का रहस्य
◆ तांडव रहस्य
◆ ब्रह्मवैवर्त पुराण
18 पुराणों के साथ-साथ
 ◆ रावण सहिंता
 ◆ भृगु सहिंता
 ◆ मंत्रमहोदधि
 ◆ तांडव तन्त्र रहस्य
 ◆ ज्योतिष ग्रन्थ
 ◆ जातक-परिजात
 ◆ स्त्री जातक
 ◆ भावप्रकाश निघण्टु
 ◆ माधव निदान
 ◆ आयुर्वेदिक निघण्टु
 के अलावा भाष्य व भाषा संस्कृत,
हिंदी, उर्दू,मराठी शब्दकोश एवं
व्याकरण के आक्रमण
तन्त्र,मन्त्र,यंत्र
के दुर्लभ ग्रन्थ एकत्रित किये
गया हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *