Month: April 2019

यकृत (लिवर) की रोगनाशक जड़ीबूटियां

April 27, 2019

तपती गर्मी में रखे– अपने लिवर का ख्याल प्राचीन काल में पहले आदिवासी एवं गर्मिन क्षेत्रो के निवासी लीबार यानि यकृत की रक्षा हेतु “मकोय एवं पुर्ननवा  जैसी जड़ीबूटियों  की भाजी (सब्जी) बनाकर भोजन के साथ खाया करते थे। यह पुराने समय से लिवर की प्राकृतिक सर्वोत्तम दवा है। जो सदियों से लिवर को क्रियाशील व मजबूत बनाने […]

Read More

श्रीमद्भागवत गीता क्या है-

April 27, 2019

कौरव 100 भाई थे। उन कौरव भाइयों के नाम इस ब्लॉग में पढ़े। इस लेख में श्रीमद्भागवत गीता के बारे दुर्लभ जानकारियाँ प्रस्तुत हैं प्रेरणादायक ग्रन्थ है श्रीमद्भागवत गीता- भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को उपदेश दिया है कि विश्वव्यापी चैतन्य सभी प्राणियों में कर्ता और भोक्ता के रूप में ईश्वर ही काम कर रहा है। इसलिए सबसे गहरे […]

Read More

नीम की पत्ती कब नहीं खाना चाहिए

April 27, 2019

नीम के दुष्परिणाम आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथ वैद्य रत्नाकर एवं 18 पुराणों में से एक ब्रह्मवैवर्त पुराण,  【ब्रह्म खंडः 27.29-34】 में लिखा है कि षष्ठी तिथि को नीम की पत्ती,  निम्बोली, फल या दातुन मुँह में  डालने या चबाने से नीच योनियों  की प्राप्ति होती है। इस दिन या षष्ठी तिथि को जो लोग नीम का […]

Read More

क्लीन स्किन के लिए हर्बल क्लीनअप

April 27, 2019

कम उम्र में ठहरा हुआ, मुरझाया चेहरा सुन्दरता को कलंकित कर देता है। त्वचा में आये दिन धूल-मिट्टी समाहित होती जाती है, जिससे कम उम्र में ही चेहरा फीका पड़ने लगता है। आत्मविश्वास कमजोर हो जाता है। सुन्दरता भी आत्मबल वृद्धि में सहायक है। एक अद्भुत !!अमृतम!! फेस क्लीनअप आयुर्वेद में चेहरे को चमकदार और  […]

Read More

पानी बनाये रखता है  –जवानी

April 27, 2019

पानी बनाये रखता है  –जवानी क़िस्से हैं पानी के, दुनिया की कहानी से ज्यादा पानी में क्या नहीं है, और भी पानी से ज्यादा  दुनिया में पानी का कोई सानी नहीं है। पानी भी एक औषधि है। आज का पिया हुआ जल,  कल यानि बुढ़ापे में काम आएगा।  आयुर्वेद में पानी की बहुत कहानी लिखी  हैं– अंदर अंदर […]

Read More

स्वस्थ्य शरीर के लिए- त्रिदोष के प्रकोप से बचे

April 24, 2019

www.amrutampatrika.com मनुष्य का शरीर विकासमान अमरबेल है। विकास या उन्नति की गति, तभी रुकती है जब आरोग्य के मंदिर का दीपक क्षीण होकर रोग का धुंआ छोड़ने लगता है। स्वस्थ्य शरीर के लिए रोग सबसे बड़ा शत्रु है। स्वस्थ्य शरीर की ऊर्जा अत्यंत वेगवती होती है। मनुष्य की पहली जरूरत है स्वस्थ्य शरीर। भक्त रैदास […]

Read More

उत्तरांचल का गुमनाम तीर्थ, जहां बथुए का साग अपने आप उग जाता है।

April 24, 2019

विदुर कुटी-विदुर की कर्म स्थली   यहां बहुत से साधु तपस्या में लीन है। गंगा किनारे बसा यह तीर्थ बहुत रमणीय है   बिजनोर उप्र से लगभग 10 से 12 किलोमीटर दूर बसे विदुरकुटी नामक तीर्थ है। बताया जाता है कि महाभारत  कालीन परम् विद्वान विदुर जी का जन्म हुआ था। उत्तरांचल विदुर आश्रम में […]

Read More

रोग मुक्ति के उपाय

April 24, 2019

कवियों की क्लेश-रोग नाशक कविताएं चैते गुड़, वैशाखे तेल। महुआ ज्येठ, आषाढ़ में बेल।।   सावन साग, न भादों मही। कुँवार करेला, कार्तिक दही।।   अगहन जीरा, फुष धना। माघ में मिश्री, फाल्गुन चना।।   इन नियमों को माने नहीं। नर नहीं ,तो परे सही।।   इसका अर्थ बहुत सीधा है, फिर भी यदि समझ […]

Read More

नामर्दी नाशक नुस्खा

April 24, 2019

नपुंसकता और धातु रोग दूर करने वाला एक प्राचीन ग्रंथ का घरेलू इलाज   प्रतिदिन तुलसी बीज जो, पान संग नित्य खाय। रक्त-धातु दोनों बढ़े, नामर्दी मिट जाये।   यह प्रयोग तीन माह तक करने से वीर्य ओर स्पर्म की मात्रा में बढ़ोतरी हो जाती है।        !!अमृतम!! बी फेराल गोल्ड माल्ट का […]

Read More

खुद से प्रेम करो, तो खुदा हो जाओगे

April 24, 2019

जिसने खुद को पहचाना वह खुदा हो गया   अपनी पहचान, अपना आत्मविश्वास हो या फिर आत्मबल “आत्मप्रेम” से ही उपजता है। आप जब तक खुद से प्रेम नहीं करोगे, तब तक दुनिया तुम्हे धकायेगी, ठुकरायेगी। स्वयं की पहचान खो दोगे, तो फिर क्या रखा है जीवन में। आत्मप्रेम सर्वोच्च लक्ष्य होना चाहिए। अपने को पहचानने […]

Read More

अमृतम पत्रिका से जुड़ने के लिए अपना ईमेल  और व्हाट्सएप नंबर शेयर करे